बुधवार, फ़रवरी 15, 2017

यादें तुम्हारी

रामेश्वर कम्बोज, डॉ . भावना कुंवर और डॉ . हरदीप संधू जी द्वारा संपादित यादों के पाखी संकलन में शामिल मेरे कुछ हाइकु में से एक
*****

1 टिप्पणी:

vibha rani Shrivastava ने कहा…

बेहद ख़ूबसूरत

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...